motivational stories real life in hindi गरीब माली का बेटा कैसे बना दुनिया का सबसे महंगा खिलाड़ी ?

hindi inspirational stories of famous personalities

1
318
motivational stories real life in hindi Inspirational Success Story inspirational stories of famous personalities inspiring stories Quotes & shayari
motivational stories real life in hindi Inspirational Success Story inspirational stories of famous personalities inspiring stories Quotes & shayari

दोस्तों आज मैं आपके किये लाया हूँ motivational stories real life in hindi गरीब माली का बेटा कैसे बना दुनिया का सबसे महंगा खिलाड़ी ?

दोस्तों ये ब्लॉग देख कर अगर आप सोच रहे है

ये कहानी सिर्फ फुटबॉल फैंस या फिर क्रिस्टियानो रोनाल्डो के फैंस के लिए है

तो ऐसा बिल्कुल नहीं है बल्कि यह कहानी  उन सभी आम मेहनतकश लोगों के लिए एक इंस्पिरेशन है

जो पूरी दुनिया में नाम कमाना चाहते हैं

यह कहानी  सबूत है कि ग्रेटनेस के लिए कोई शॉर्टकट नहीं होते

बल्कि पर्दे के पीछे सच्ची  लगन और कड़ी  मेहनत बहुत सारी मेहनत होती है

दोस्तों  आज की इस कहानी  में जानिए कि

कैसे एक गरीब मालि का बेटा दुनिया का सबसे महंगा फुटबॉल प्लेयर बन गया

नमस्कार मैं आपका दोस्त राज और स्वागत है आपका मेरी नए मोटिवेशनल ब्लॉग motivational stories real life in hindi गरीब माली का बेटा कैसे बना दुनिया का सबसे महंगा खिलाड़ी ? की नई कहानी में

प्रारंभ motivational stories real life

दोस्तों दुनिया का सबसे बेहतरीन फुटबॉल खिलाड़ी नाम है क्रिस्टियानो रोनाल्डो

आप में से कई शायद नहीं  जानते होगे  लेकिन

क्रिस्टियानो रोनाल्डो को फुटबॉल पसंद करने वाले सभी लोग भगवान से कम नहीं मानते

आप सभी को यह जानकर झटका लगेगा कि रोनाल्डो फुटबॉल खेलकर सालाना 700 करोड रुपए से भी ज्यादा कमाते हैं

जी हाँ 700 करोड  वो भी 1 साल में

पर आप में से बहुत से लोग ये नहीं जानते

की शोहरत के शिखर पर बैठी इस शख्स का बचपन टिन के छत जिसमे बरसात में पानी टपकता था

ऐसे छत के नीचे गुजरा  था

आज मैं आप सभी को क्रिस्टियानो रोनाल्डो की जिंदगी के उन पहलुओं के बारे में बताऊंगा

जिनके बारे में शायद आपको जानकारी ना हो

जन्म और बचपन क्रिस्टियानो रोनाल्डो

real life inspiring stories क्रिस्टियानो रोनाल्डो

सबसे पहले जानते हैं कि कौन है इनका जन्म 5 फरवरी 1985 को पुर्तगाल के शहर अंचल में हुआ

क्रिस्टियानो रोनाल्डो का पूरा नाम क्रिस्टीयानो रोनाल्डो सेंट ऑफ

रोनाल्डो के पिता अमेरिकन एक्टर और फिर बाद में प्रेसिडेंट बने रोनाल्ड रीगन के बहुत बड़े फैन थे

उन्हीं के नाम पर उन्होंने अपने बेटे का नाम रोनाल्डो रख  दिया

क्रिस्टीयानो रोनाल्डो पुर्तगाली नागरिक हैं और फिलहाल फुटबॉल क्लब की तरफ से खेलते हैं

पुर्तगाल की नेशनल फुटबॉल टीम के कैप्टन क्रिस्टियानो रोनाल्डो  बंगलों में रहते हैं

दुनिया की सबसे महंगी गाड़ियों में सफर करते हैं

लेकिन आप सभी को जानकर हैरानी होगी कि हमेशा से क्रिस्टियानो रोनाल्डो की जिंदगी ऐसी नहीं थी

यहां तक पहुंचने का यह सफर कि फिल्म की कहानी से कम नहीं है

अपने बचपन के दिनों में रोनाल्डो टीम के घर में अपने पूरे परिवार के साथ रहा करते थे

रोनाल्डो के परिवार में उनके अलावा माता-पिता दो भाई और एक बहन भी थी

एक साधारण से परिवार में जन्मे रोनाल्डो के पिता पुर्तगाल में ही नगर निगम में मालि का काम किया करते थे

पार्क में पौधों की कटाई छटाई और पानी डालकर उन्हें हरा रखने का काम करते

छोटी उम्र से ही क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने फुटबॉल खेलना शुरू कर दिया

रोनाल्डो को बचपन से ही फुटबॉल से बहुत ज्यादा लगाव था

रोनाल्डो की खेल में इस तरह के लगाव को देखकर मात्र 8 साल की उम्र में ही

क्रिस्टियानो को एंडोरीना स्पोर्ट्स क्लब में चुन लिया गया

रोनाल्डो की माता का नाम मारिया मारिया बचपन में रोनाल्डो को क्राय बेबी बुलाती थी

क्योंकि क्रिस्टियानो जब भी अपने बचपन में फुटबॉल खेला करता और हार जाता

या फिर मैदान में अच्छा स्कोर नहीं बना पाता तो वह मैदान के बीच में ही रोना शुरू कर देता था

क्रिस्टियानो स्कूल में क्लास से ज्यादा फुटबॉल ग्राउंड पर मिलता था

फुटबॉल के खेल में क्रिस्टियानो रोनाल्डो का दिल इतना लग चुका था

कि केवल 10 साल की छोटी सी उम्र में ही क्रिस्टियानो रोनाल्डो पुर्तगाल के सबसे बड़े स्पोर्ट्स क्लब ने अपना मेंबर बना लिया

10 साल की छोटी सी उम्र में ही पुर्तगाल के सबसे बड़े स्पोर्ट्स क्लब में चुने जाने के बाद

यहां रोनाल्डो 2 साल तक लगातार खेलते रहे

Real life inspirational stories of famous personalities

बतोर प्रोफेशनल खिलाडी शुरुवात

बताते हैं कि वह अपने पहले ब्रेक के लिए हमेशा अपने दोस्त अल्बर्ट फ्रोंत्रोऊ के शुक्रगुजार रहेंगे

किस्सा कुछ यूं था कि रोनाल्डो और अल्बर्ट यूथ क्लब के लिए खेलते थे

एक दिन जब स्पोर्टिंग लिस्बन की ऑफिशियल उनकी ट्राईल लेने आए

तो उन्होंने साफ साफ कहा कि जो भी ज्यादा गोल करेगा उसे हमें क्लब एडमिशन देंगे

रोनाल्डो की टीम ये मैच 3-0 से जित गयी

जिसमे पहला गोल रोनाल्डो ने और दूसरा गोल उनके ही दोस्त अलबर्ट ने मारा वह तीसरा गोल था

जिसने सबको इंप्रेस कर दिया दरअसल तीसरे गोल ने अलबर्ट ने बोल  को अकेले ही गोलकीपर के पास ले गया

पास  ले  जा कर गोल करने  के लिए सिर्फ उसे फुटबॉल को हल्का सा पूस  करना था

लेकिन उसने गोल नहीं किया बल्कि रोनाल्डो को पास किया

जिससे रोनाल्डो ने यह गोल मारा और अकैडमी में एडमिशन भी पाया

जब रोनाल्डो ने अपने दोस्त से पूछा कि उसने ऐसा क्यों किया तब अल्बर्ट ने जवाब दिया

कि रोनाल्डो उससे बहुत बेहतर फुटबॉल खिलाड़ी है

अल्बर्ट और रोनाल्डो की दोस्ती  इस इंसीडेंट के बाद मजबूत हो गई और वह आज तक दोस्त हैं

रोनाल्डो का अच्छा खेल देखने के बाद

टूट स्पोर्टिंग लिस्बन  के बड़े अधिकारियों ने क्रिस्टियानो रोनाल्डो को 15 पाउंड में साइन कर लिया

यह क्लब पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में था

और इसी कारण रोनाल्डो को 12 साल की उम्र में ही अपनी पूरी परिवार का साथ छोड़कर पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में रहने जाना पड़ा

अपने परिवार को छोड़कर जाने का रोनाल्डो को बहुत ज्यादा दुख हुआ

Real Life Inspirational And Motivational Story In Hindi

परेशानिया 

जब रोनाल्डो 15 साल का हुआ तब इनके माता-पिता को पता चला कि रोनाल्डो के दिल में परेशानी चल रही है

जब रोनाल्डो को डॉक्टर के पास ले जाया गया तो पता चला कि क्रिस्टियानो रोनाल्डो के दिल में एक बड़ी गड़बड़ी है

इसी कारण से डॉक्टर ने रोनाल्डो को ज्यादा दौड़  और फुटबॉल खेलने से मना किया

डॉक्टर ने बताया कि या तो रोनाल्डो के दिल की सर्जरी करनी होगी

या फिर उन्हें हमेशा के लिए फुटबॉल खेलना बंद करना पड़ेगा

8 से 10 घंटे फुटबॉल में बिताने वाले क्रिस्टियानो रोनाल्डो का फुटबॉल खेलना छोड़ देना  कतई मंजूर नहीं था

इसी कारण उन्होंने दूसरा विकल्प चुना और डॉक्टर से अपने दिल की सर्जरी करने को कहा

इस सर्जरी में जान जाने का भी खतरा था

सर्जरी से रिकवर होने के बाद रोनाल्डो फुटबॉल खेलने के लिए तैयार हो चुके थे

इसी बीच क्रिस्टियानो रोनाल्डो के जीवन में एक बहुत बड़ा दुख आया

जो शराब पीने की लत के कारण उसके पिता की मृत्यु हो गई

इस घटना ने रोनाल्डो को हिला कर रख दिया

वे अपने पिता के ही सबसे ज्यादा करीब  थे

शराब की वजह से पिता की मौत के कारण आज तक कभी भी क्रिस्टीयानो रोनाल्डो ने शराब को हाथ तक नहीं लगाया

उनके पिता ही घर  के इकलौते कमाने वाले सदस्य थे

जिनके चले जाने के कारण क्रिस्टियानो रोनाल्डो के घर की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा खराब होने लगी

दूसरों के घरों में जाकर खाना बनाकर अपने परिवार का गुजारा करना पड़ रहा था

लेकिन उन्होंने इन सभी तरह की परेशानियों से जूझते हुए अपने फुटबॉल खेलकूद जारी रखा

लगातार कठिन परिश्रम के दम पर आगे जाकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो एक अच्छे खिलाड़ी के तौर पर उभरे

क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने अपना पहला क्लब में 17 साल की उम्र में खेला

अच्छा खेल खेलने के कारण इस दिन से क्रिस्टियानो रोनाल्डो को बहुत फायदा हुआ

उपलब्धियां Inspirational Success Stories

सन् 2003 में 18 साल की उम्र में रोनाल्डो को इंग्लिश फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड ने 17 मिलियन अमेरिकी डॉलर में साइन किया

इसी के साथ क्रिस्टियानो रोनाल्डो दुनिया की सबसे महंगी टीनएजर फुटबॉल खिलाड़ी बन चुके थे

हालांकि मैनचेस्टर यूनाइटेड में उन्होंने जर्सी नंबर 28 की मांग की थी कृपया अगले पेज पे जाये

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here